अन्य खेल

अन्य खेल   |   September 27, 2019

अभी जुडे!
बाजार देखें

श्रीहरी नटराज: वह किशोर जो टोक्यो से एक सेकंड से भी कम दूरी पर है

बेंगलुरु में पादुकोण-द्रविड सेंटर फॉर स्पोर्ट्स एक्सीलेंस 10 वीं वार्षिक एशियाई आयु समूह तैराकी चैंपियनशिप आयोजित कर रहा है, जहाँ पूरे महाद्वीप के एथलीट तैराकी, कलात्मक तैराकी, वाटर पोलो और डाइविंग में प्रतिस्पर्धा करेंगे। यह आयोजन बहुत अधिक महत्तव रखता है, क्योंकि यह ओलंपिकस के लिए क्वालीफायर के रूप में भी काम करता है और भारत के कई सर्वश्रेष्ठ तैराक 2020 में टोक्यो खेलों के लिए अपना स्थान सुरक्षित करने के लिए प्रतिस्पर्धा करेंगे। सभी की निगाहें साजन प्रकाश और श्रीहरी नटराज पर होंगी, क्योंकि वह ओलंपिक में अपने स्थान के इंच नज़दीक पहुंच गए हैं।

जबकि प्रकाश ने 200 मीटर बटरफ्लाई में बी-मार्क को पूरा कर लिया है, वहीँ नटराज ने 100 मीटर बैकस्ट्रोक प्रतियोगिता के लिए ऐसा किया है और अगर हाल ही में कुछ भी होता है, तो उत्तरवर्ती पर प्रतियोगिता में सबका ध्यान केंद्रित होगा। महीने की शुरुआत में 73 वें ग्लेनमार्क सीनियर नेशनल एक्वेटिक चैम्पियनशिप में, नटराज ने 100 मीटर फ्रीस्टाइल, 50 मीटर बैकस्ट्रोक और 100 मीटर बैकस्ट्रोक स्पर्धाओं में स्वर्ण पद हासिल किया, जबकि दोनों बैकस्ट्रोक स्पर्धाओं में राष्ट्रीय रिकॉर्ड का दावा किया। जबकि उनके प्रदर्शनों ने भारत में पहले से ही एक्वेटिक सर्किट में शानदार प्रदर्शन दिया है, शायद नटराज की सबसे अधिक प्रभावित करने वाली बात यह है कि इस साल जनवरी में बेंगलुरु स्थित तैराक 18 साल के हो गए हैं।

‘किशोर अवस्था में जोश’ शब्द का अक्सर प्रयोग ऐसे ही हो जाता है लेकिन नटराज के मामले में, यह सच है। तैराक इस दशक की शुरुआत से ही शीर्ष स्तर पर खिताब जीत रहा है और हर बार तालाब में डुबकी लगाने के बाद बेहतर ही होता है। 2018 में एशियाई खेलों में, नटराज ने क्रमशः 55.86 स्कैन्ड और 2:02.37 स्कैन्ड के समय में क्रमागत रूप से 100 मीटर और 200 मीटर बैकस्ट्रोक स्पर्धाओं में विश्व चैंपियनशिप के लिए बी-मार्क को पार किया है। कुछ ही महीनों बाद, उन्होंने 100 मीटर 54.18 सकेंड के समय में पूरी की और ओलंपिक के लिए बी-मार्क हासिल किया, जो कि थोड़े समय में एक चौंका देने वाला सुधार था।

5 वर्ष की आयु से दौड़ में भाग लेते हुए, नटराज अभी से ही राष्ट्रीय स्तर पर एक ठोस रेज़्यूमे का दावा करता है, लेकिन वह उस स्तर पर राज करने से अधिक के सपने देखता है। बैकस्ट्रोक की उनकी महारत चौंका देने वाली है, और वह वर्तमान में 100 मीटर स्पर्धा में टोक्यो 2020 के लिए ए-मार्क से सिर्फ 0.84 स्कैन्ड दूर हैं। नटराज इतिहास के किनारे पर है। यदि वह बाधा को दूर करने में कामयाब होता है, तो वह ओलंपिक में प्रतिस्पर्धा करने वाला पहला भारतीय बन जाएगा। 19 साल की उम्र में, माइकल फेल्प्स पहली बार ओलंपिक खेलों में गया। और अगर सब कुछ ठीक रहा तो 19 साल के श्रीहरी नटराज आज से एक साल से भी कम समय में टोक्यो के लिए उड़ान भरेंगे।

द्वारा लिखित: स्पोर्टज़ इंटरएक्टिव